દેશી બ્લુ પિક્ચર

पाल अंगावर पडणे शुभ की अशुभ

पाल अंगावर पडणे शुभ की अशुभ, माँ ने बड़ा सोच के मुझे पे गुस्सा किया.और वो जितने टाइम सोच रही थी, उतना ही मेरा यकीन बढ़ता जा रहा था की माँ सेक्स के लिए रेडी हे..बस थोड़ी सी मेहनत करनी पडेगी. मोम भी मेरी बेक़रारी देख के मुस्कुरा पडी और फिर में माँ के साथ बेड पे बैठा. मैं तो बस माँ का इंतज़ार कर रहा था की कब माँ कुछ कहें और बात आगे बढे. मैं और माँ ऐसे ही चुप चुप बैठे..फिर माँ ने कहा,

वो भी भी पूरा साथ दे रही थीं, उन्होंने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी और जबरदस्त किस कर रही थीं, दीदी अपने दोनों हाथों से मेरे पीठ पर नोंच रही थीं. रमेश- सॉरी जानेमन. उसने पहले ही कहीं सेटिंग कर ली है. तुम्हारी बारी अगली बार आएगी और फिर रगड़ कर तुम्हें चोदेंगे.

अचानक रवि ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और बोला- आह्ह रंडी, नीचे आ … मैं झड़ने वाला हूं. जल्दी से अपना मुंह खोल! पाल अंगावर पडणे शुभ की अशुभ हमारा यह संबंध अभी भी चल रहा है. मेरी शादी भी हो चुकी है लेकिन बुआ की लड़की सपना की चूत मेरे लंड से ही शांत होती है. अब वह चाहती है कि मैं उसकी सहेली को भी चोदूँ. उसकी सहेली भी उसी की तरह ज़रूरतमंद है.

తెలుగు యూట్యూబ్ ఛానల్

  1. कुछ नहीं चाची..मस्त स्मेल आ रही थी वो सूँघ रहा था. चाची ने सोचा नहीं था की में सच कहूंगा..की में क्या कर रहा था पर जैसे ही मैंने मासूम बन के कहा तो चाची शर्मा गयी और मुस्कुरा पडी, लेकिन फिर बनते हुए कहा
  2. अरे नहीं, मैं तो मजाक कर रही थी। बुरा मान गये मेरे रज्जा। माफ कर दो। मैं बनावटी तौर पर बचते हुए माफी मांग रही थी। फिर भी करीम की पकड़ में आ ही गयी। पकड़ में क्या आई कि करीम तो शुरू ही हो गया। मेरे नितंबों की दबाते हुए चूमना आरंभ कर दिया। आह, छोड़ो, छोड़ो मुझे। साउथ की हीरोइनों की सेक्सी वीडियो
  3. बारिश काफी तेज थी इसलिए मैंने सोचा कि बारिश रुकने का इंतजार करना ही ठीक रहेगा. हम दोनों बाइक रोक कर एक मकान के छज्जे के नीचे खड़े हो गये. सुषमा के बदन पर मेरी नजर गई तो मैं चाह कर भी खुद को उसे ताड़ने से नहीं रोक पाया. मेरी नज़र कभी उसके मम्मों पर तो कभी उसकी पेंटी पर जाती. उसके सफ़ेद झीने से सूट में से झलकती ब्लैक पेंटी और ब्रा की हल्की झलक मैं साफ़ देख सकता था. उसके कूल्हे के बगल से जाती वो पेंटी की रबर और उसकी पीठ पर बँधी उसकी ब्रा की पट्टी और उसका हुक मैं साफ़ देख सकता था.
  4. पाल अंगावर पडणे शुभ की अशुभ...कुछ पलों के बाद मैंने जस्सी की ब्रा को खोल दिया और देखा एकदम सफ़ेद और चिकने चूचे खुली हवा में खिलने लगे. रिया ने सूसू करना शुरू कर दिया. उसकी चूत से सीटी की आवाज़ निकलने लगी. उसकी गर्म-गर्म सूसू रमेश की जाँघों पर लगी तो उसको बहुत मज़ा आया और उसी पल रमेश ने भी सूसू की धार रिया की चूत में मार दी।
  5. मैंने थोड़ा नानुकुर के बाद भाई का लंड चूसना शुरू कर दिया। मुझे लंड चूसना इतना अच्छा लग रहा था कि मैं बेशर्मों की तरह उसका लंड चूसती रही। ‘ना मेरी रंडी बहन.. तू मत मर मेरी बहन की चूत.. मैं मार तो रहा हूँ.. ऊऊऊऊआआह.. तेरी चूत का बीज रगड़ दूँ.. आह..’

गाने वाला सेक्सी वीडियो

कोमल दीदी सिसकारियाँ भर रही थी, कराह रही थी- चोद रेशु… जोर जोर से मेरी प्यासी चूत को चोद! उम्म्ह… अहह… हय… याह… जोर जोर से! बहुत मजा आ रहा है.

सलमान तुम्हें पता है मैंने कैसे यह दिन बिताए, मरनेवाली हो गई थी मैं कह के साना ने मेरा हाथ पकड़ लिया। । । ‘दीदी… मुँह में लेकर तो देख बहुत मज़ा आएगा, शुरू शुरू में मुझे भी अच्छा नहीं लगता था पर अब तो जब तक लंड चूस ना लूं चुदाई का मज़ा नहीं आता।’ पायल ने अपना अनुभव सोनम को बताया।

पाल अंगावर पडणे शुभ की अशुभ,भावना बार-बार मेरे लंड को हाथ में लेने की कोशिश कर रही थी लेकिन अंडरवियर टाइट होने की वजह मेरा लंड अच्छी तरह से उसके हाथ में नहीं जा पा रहा था.

रेशु..प्लीज अब पढाई पे कंसन्ट्रेटे करो, और बेटा अब आगे से दूसरी चीजो के बारे में सोचना बंद कर के करियर पे ध्यान दो, ठीक हे, कोई हेल्प चाहिए तो में हू..ठिक है बाय...

जय- नहीं मैं बिस्तर शेयर नहीं करने वाला हूँ.. एक काम कर तू पापा के कमरे में सो जा.. वैसे भी तू रात को उसका फॉर्म भरने उठेगा। मुझे अपनी नींद नहीं खराब करनी है। पापा का कमरे दीदी के कमरे के पास ही है.. वो तुमको आसानी से उठा देगी।सेक्सी बीएफ चुदाई फुल एचडी

मनीषा का वो गेहुंआ रंग और हाइट 5 फुट 3 इंच.. बाल घने और लंबे.. और पूरा बदन एकदम भरा हुआ था. उसके लिप्स पे लगी हल्की लिपस्टिक मानो मुझसे कह रही थी कि आ जाओ और होंठों के पूरे रस पी लो. अब वो अपनी चूचियों को मसलने लगी हिला-हिला कर मुझे दिखा रही थी। फिर अपने निप्पल को दो उंगली के बीच में फंसा कर चूचियों को हिलाने लगी।

वो कॉलेज फंक्शन की फोटो देख रही थी। मैं भी उसी के बगल में लेट कर देखने लगा.. तो उसमें उसका फोटो नहीं था।

मैं पागलों की तरह उसकी चूत चाटने लगा. आज मेरा सपना हकीकत में बदल रहा था. यही सोचते-सोचते पूरी जीभ उसकी चूत में घुसा दी. वह पागलों की तरह आह … आह … करके सिसकारियां निकाल रही थी.,पाल अंगावर पडणे शुभ की अशुभ वो फिर अपनी चेयर पर बैठी और फिर से सोचने लगी, शायद मेरे मुँह में उनका बूब्स, यह सिन उनके माइंड से नहीं जा रहा था लेकिन अब वो शांत लग रही थी.

News