मम्मी और पापा की चुदाई

മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്

മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്, अंकल के बगल में दो अंकल और लेटे हुए थे, उनमें से तुरंत एक अंकल को उन अंकल ने उठाया, बोले- मुन्ना भाई उठो!वो भी उठ के बैठ गये, पर अंकित तब तक अपनी अंडरवियर और लोवर पहनकर चुपचाप लेट चुका था. समीर और काव्या किस शॉपिंग के बारे मे बात कर रहे थे, वो बेचारी कुछ भी नही जानती थी ..उसके दिमाग़ मे तो बस ये बात घूम रही थी की कैसे वो विक्की को समझाएगी ...

जैसे ही लंड मेरे होठों को रगड़ा, उसके टच करने से गरम गरम उसकी छुअन से मुझे बहुत मस्त अजीब सा लगा और मैंने अपने हाथ से उसका लन्ड पकड़ कर मुंह में भर लिया और चूसने लगी लन्ड!राज का लन्ड बहुत बड़ा नहीं है इसलिए आराम से मुंह में पूरा घुसा दिया और मैं चूसने लगी, चाटने लगी. मैंने जैसे ही चाचा के पैंट की बटन खोल कर ज़िप खोली और पैंट नीचे खिसकाने लगी.. उनके अंडरवियर में उनका लंड बहुत खड़ा महसूस हुआ. मैंने चाचा की पैंट भी उतार कर उनके शरीर से अलग कर दिया. अब सिर्फ चाचा के शरीर में उनकी अंडरवियर बची.

नितिन : ओह, इस प्लास्टर के उपर तो मैं प्लास्टिक शीट लगा कर इसको ढक लेता हू, और फिर बाथ टब में या शावर मे नहा सका हू ..'' മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള് मैंने उठकर अपना टॉप और स्कर्ट पहना, पर जैसे ही उठी.. मुझसे चलते नहीं बन रहा था, पता नहीं मेरी जांघों और टांगों को क्या हो गया था. मुझे चलने में बहुत दर्द हुआ और जलन होने लगी थी.

बाबासाहेब आंबेडकर जयंती फोटो 2021

  1. और उसके हिलते स्तनों और लरजते होंठों को देखते हुए उसने अपना लंड एकदम से बाहर निकाला और उसके चेहरे से लेकर उसकी नाभि तक हिस्से को बर्फीली चादर से ढक दिया
  2. तभी जोर से मेरे दूध को दबाते हुए राज अंकल बोले- बाप रे … तेरी नशीली आंखों में तो हवश और चुदाई भरी है संध्या! इतनी सेक्सी आंखें … ओह माई गॉड … तेरी आंखों का कोई जवाब नहीं, तू तो ऐसे किसी मर्द को देख ले तो वह बेमौत मर जाये! या तुझे वहीं का वहीं चोद देगा. हिंदी सेक्सी पिक्चर व्हिडिओ
  3. श्वेता अपने सपनो से बाहर आई...उसका अभी तक कुछ नही हुआ था पर पिछली बार से काफी बेहतर था , पर फिर भी वो एकदम से बोली : रूको...अंदर मत निकालना....मेरे मुँह के अंदर डालो सब....'' समीर उसके नंगे बदन से लिपटकर खड़ा हो गया और उसकी उभरी हुई गांड पर अपने लंड को रगड़कर अपनी जीभ से उसकी कमर को चाटने लगा.
  4. മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്...समीर ने भी थोड़ा और मज़े लेने की सोची...एक तीर से दो शिकार करना चाहता था वो आज...इसलिए वो शुरू हो गया. विक्की से भी रहा नही गया, उसने अपने हाथ आगे किए और रश्मि के मोटे-2 मुम्मे अपनी उंगलियों से दबाने लगा...वो सच ही कह रही थी, ऐसी छातियाँ तो उसने आज तक नही पकड़ी थी.
  5. साले चोद न भोसड़ा बना दे इसकी गाँड़ को ...उफ्फ क्या जानदार लन्ड है तनु अपनी चूत को तेजी से रगड़ते हुए सोच रही थी वो इस समय तक पूरी गर्म हो चुकी थी उसे होश भी नहीं था कि वो बबिता के घर के बाहर है और सड़क से आते जाते लोग उसे देख सकते हैं वैसे रात के अंधेरे ने उसको अजनबी नज़रों से बचा रखा था । इतने में वे दोनों किसान दरवाजा बंद करके नजदीक आ गए. तब चाचा बोले कि बस 5-10 मिनट रूको जल्दी चलते हैं.

लड़की ने किया कुत्ते के साथ सेक्स

समीर तो अपनी ही धुन में रोज़ी की गांड का तिया पांचा करने मे लगा था...उसके नर्म कुल्हों को जगह -2 से चूम कर..अपनी जीभ से उन्हे चाट कर अपने प्यार की मोहर लगा रहा था उसके पिछवाड़े पर..

विक्की ने जब उसे ऐसे टावल से ढक कर आते हुए देखा तो वो बोला : अरे आंटी...आप ऐसे टावल लपेट कर क्यों आई हो...पानी मे आओ ना..ये टावल यहीं किनारे पर रखो...देखो कितना मज़ा आ रहा है पानी मे..'' फिर मैं खाना खाकर अपने घर आ गया. दिव्या की नजदीकी में शाम बहुत अच्छी बीती थी और राजेश से थोड़ी दोस्ती भी हो गयी. रात को मैंने सपने में देखा की मैं दिव्या को पूरा नंगा करके चोद रहा हूँ.

മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്,मुझ पे गोली का असर हो रहा था... आंखे भी लाल हो गई थी... अब और कंट्रोल नही हो रहा था... मेने सीधा दो धक्के में लंड को चुत के अंदर की...

रमा(उसे चिंता होने लगी थी कि कहीं रवि के लन्ड में खून का बहाव न रुक जाए)- रवि तुम पागल हो क्या ,खून जम जाएगा खोलो इसे ।

हा हा हा ..... कैसा लगा मेरा सरप्राइज .....यही तो मैं दिखाने के लिए लाई थी, पर तुमने आँखे ही नही खोली...और थोड़े और मज़े लेने के लिए मैने ये आँखो पर बाँधने का नाटक किया, ताकि इसकी शरम कुछ कम हो जाए...और देख ज़रा इसको...कैसे मज़े ले-लेकर तुझे सक्क कर रही है...''देहात के बीएफ वीडियो

रश्मि ने समीर को ना कहना तो सीखा ही नही था अब तक, और वैसे भी, सेक्स के मामले मे वो अब इतना खुल चुकी थी की उसे भी मज़ा आने लगा था ऐसी हरकतें करने मे.. समीर सोचने लग गया और फिर कुछ देर बाद बोला : तो फिर एक काम कर , तू भी साथ चल, मुझे कौन सा सारा दिन बंद कमरे में रहना है, शाम को तो पेग चाहिए होता है मुझे, और अकेले पीने में वो मजा नहीं है जो तेरे साथ बैठकर पीने में है''..

फिर उसने मेरी योनि के दाने को अपनी एक उंगली से मसलना शुरू किया…मैं तो बस फिर मज़े मे खोती ही जा रही थी. उसकी एक उंगली दाने पे और दूसरी उंगली योनि पे चल रही थी..मेरे मूह से सिसकारी भरी आहें निकल रही थी.

श्वेता (हंसते हुए) : ऐसा भी नही है...मेरा भाई घर पर ही है..यू नो, उसका एक्सिडेंट हुआ था..इसलिए वो कही बाहर भी नही जा सकता, पर उसने प्रोमिस किया है की वो हमे पूरा स्पेस देगा...'',മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള് इतने में तुंरत अंकित के पापा आ गए बाल्टी लेकर … मुझे खड़े देखे तो बोले- सोनू तू कब आ गई?मैं बोली- अभी आई हूं मौसा!अंकित के पापा बोले- ठीक है, पहले तू चली जा, बाद में मैं जाऊंगा.

News