इंडियन सेक्सी चुदाई फिल्म

नवरा बायकोची झवाझवी

नवरा बायकोची झवाझवी, मोनू के घर के पास पहुँचकर रुची ने इधर उधर देखा और अंदर घुस गयी...हमेशा की तरह मोनू ने दरवाजा खुला छोड़ कर रखा था...और हमेशा की तरहा रुची फिर से दरवाजा खुला छोड़ कर उपर की तरफ चल दी.. . वो मॅम घर पर जाना है….घर वाले अलाव नही करेंगे….. अब तक मेरा लंड नेहा की चूत मे समा चुका था….और वो धीरे-2 ऊपर नीचे होने लगी थी….हम ने 10 मिनिट तक ऐसे ही सेक्स किया….और फिर मे कार से निकल कर अपनी बाइक से घर पहुँचा……

नीरज- ठीक है.. मान जाता हूँ.. एक बात कहूँ.. मैं तुम्हें खुल कर प्यार करना चाहता हूँ.. क्या तुम मुझे इजाज़त देती हो? दुसरे डिब्बे को अपने हाथ में ले के काकी ने जब उसमे रखा सामान बहार निकला तो उसे भी वही मिला.....लेकिन काकी इन दोनों से ज्यादा समझदार तो वो एक पल में ही समझ गयी की यह क्या चीज है...

इसके बाद लाइफ रूटिन से चल रही थी,अब आरती रमण के आइ कॉंटॅक्ट से बचने की कोशिस करती थी.पर रमण अपना सारे का सारा कनसेन्रेशन आरती पर ही रखे हुए था,इसलिए वो कोशिस करता था कि कैसे आरती की कंपनी ज़्यादा से ज़्यादा एंजाय की जाए,पर अरविंद के डर की वजह से ज़्यादा कुछ नही कर सकता था. नवरा बायकोची झवाझवी वो सीधा मेरे पास चला आया…आज भी उसके पास दारू का क्वॉर्टर था…फिर से दारू का दौर शुरू हो चुका था..उसके पहला पेग ख़तम करने से पहले ही मैने उसे पूछा….कमलेश भाई एक बात करनी थी आप से….

బిఎఫ్లు కావాలి బిఎఫ్లు

  1. चुदवाती है तो चुदवाने दे. मामीजी बोली, आखिर उस पर घर के मर्दों का भी हक है. पर तु अपने कमरे मे शराब रखनी बंद कर. जब कोई दावत हो तो तेरे मालिक विलायती शराब ला देंगे. तब उसे जितनी पीनी हो पी लेगी.
  2. आरती ने कहा कि तुमको आने की क्या ज़रूरत थी मैं ला तो रही थी,रमण बोला कि वो बात नही है,मैं मनु के सामने बोलना नही चाह रहा था,आज आप को देख कर मेरे दिल मे कुछ-2 हो रहा है,आप इतनी सुन्दर लग रही हो कि मेरा दिल कर रहा है कि आप को चूम लूँ. एचडी सेक्स ब्लू फिल्म
  3. सुधा - यह लो तुम्हारे कपडे मैं ले आई हूँ.....सोमू बेटा तुम भी चेंज कर लो...लाओ यह सलवार कुरता मुझे दे दो नीलू और यह पेंटी भी उतर दो.... काकी - अरे तुम इस जमाने के लड़के लड़कियों का कुछ भरोसा नहीं है. तुम लोग तो कुछ भी कर सकते हो. चिंता तो हो ही जाती है.
  4. नवरा बायकोची झवाझवी...मै कमर उठा उठाकर रामु से चुदवा रही थी. रामु मेरे ऊपर लेटकर मेरे नर्म होठों को पी रहा था. उसके मुंह से बीड़ी और शराब की महक आ रही थी, पर मुझे उस समय एक नौकर से चुदने मे बहुत मज़ा आ रहा था. मीरा- मेरे आशिक.. जब चूत की सील इस लौड़े से तुड़वा ली.. तो गाण्ड में क्या हर्ज है.. और डर किस बात का.. वो लंड ही क्या.. जो दर्द ना दे..
  5. सुबह का दिन हमेशा की तरह ही था.. बस आज दिलीप जी अपने अख़बार में मस्त थे और ममता अपने काम में.. और अपनी हीरोइन मीरा.. स्कूल के लिए तैयार हो गई थी। रश्मी : अच्छा जी...इसका मतलब है की तुम भी अपने दोस्तों की बहन पर लाइन मारते हो...या फिर हो सकता ही की वो मुझपर लाइन मारते हो..''

मराठी एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो

मैने ठीक वैसे ही किया….जैसे ही मैने अपनी दोनो उंगलियों को चूत के अंदर ही फैलाना शुरू कर दिया…..मतलब कि अपनी दोनो उंगलियों को एक दूसरे से अलग रखने की कॉसिश की तो….मेरे उंगलियाँ नेहा की चूत के दीवारो से दोनो तरफ सट गयी….

ओह! बह रे मेरी चुड़ककर बहन, तू तो बहोत जल्दी ही सब कुच्छ सीख गयी. तेरे को मेरे पती का लंड कैसा लग रही है? आज तेरी सुहाग रात है और तूने आज ही मेरे पती का लंड अपने हाथों मे लेकर मसलना शुरू कर दिया? देवकी जया से बनावटी गुस्से मे बोली. तब शर्मा कर जया बोली, और इस नेक काम में मैने ज़रा सी भी देर ना करते हुए, धीरे-2 अपने हाथ को उसकी चूत की तरफ बढ़ाना शुरू कर दिया….तो उसने मेरे लंड को छोड़ कर मेरे हाथ के ऊपर अपने दोनो हाथ रख लिए….श्िीीईई नही सर……प्लीज़ मम्मी आ जाएगी…. अनु ने सिसकते हुए कहा….और मेरे हाथ के ऊपर अपने दोनो हाथ रख लिए….

नवरा बायकोची झवाझवी,रश्मी भी खुश हो गयी....वैसे भी खाना खाने के बाद वो रात को 12 बजे तक जागती रहती थी...ऐसे मे अपने भाई के साथ कुछ वक़्त गुजारने की बात सुनकर वो काफ़ी खुश हुई..और उसने खुशी-2 हाँ कर दी.

अमृता आज तक मैंने तुझे सिर्फ अपने ही कमरे में प्यार किया है, आज मै तुझे यही रसोई में ही प्यार कर लूँ? मगर अमृता ने उसके लिए भी मन कर दिया और कहा कल कर लेना (शादी की बात से अमृता का मूड अभी भी ख़राब हो रहा था) |

मीरा- ओई.. आह राधे.. आह्ह.. तुम फिकर मत करो.. आह्ह.. मुझे कुछ नहीं होगा.. आह्ह.. अभी पूरा मत घुसेड़ना बस.. आह्ह.. आधे को ही अन्दर-बाहर करो.. आह्ह.. थोड़ी जलन कम हो जाए.. तो पूरा घुसा देना आह्ह.. ओई…एक्स एक्स एक्स कहानी

नीरज ने कमर पर दबाव बनाया और ज़ोर से झटका मारा.. आधा लंड चूत को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया और झटके के साथ ही उसने रोमा के होंठ अपने होंठों में दबा लिए। बॉस: हाँ हां दिलवा देना ना यार वैसे उसे मोबाइल के बारे मे बहुत कम नालेज है….अच्छा यार मे थोड़ी देर बाद देल्ही पहुँच जाउन्गा…..तो एरपोर्ट पर पहुँचने के बाद मेरा फोन ऑफ हो जाएगा…..कुछ काम है तो बोल…..

गाँव की भोली भाली औरत, जिसने आज तक सैक्स भी सिर्फ़ सीधे तरीके से ही किया था, उसने आज मालकिन के साथ मिलकर जो जलवे दिखाए थे, उनकी चूत चाटी , अपनी चटवाई...

लेकिन आज के बाद तो शायद ऐसा ही होने वाला था, क्योंकि कुणाल को अपने लंड पर इतना भरोसा तो था की मेमसाब एक बार जब उसे अपनी फुददी में ले लेंगी तो रोज लेने के लिए मचला करेंगी..,नवरा बायकोची झवाझवी सुधा - यह लो तुम्हारे कपडे मैं ले आई हूँ.....सोमू बेटा तुम भी चेंज कर लो...लाओ यह सलवार कुरता मुझे दे दो नीलू और यह पेंटी भी उतर दो....

News