दादा पोती का सेक्सी

पेन्शन वाढ कधी होणार

पेन्शन वाढ कधी होणार, दीपाली- जाओ ले लो मज़ा. मेरी भी ‘ग्रुप सेक्स’ की तमन्ना आज पूरी हो जाएगी. चोदो जितना चोदना है.. आज मैं खूब मज़े से चुदवाऊँगी. पता है रात मैंने प्रिया की बताई हुई कहानी पढ़ी है.. उसमें से ऐसी-ऐसी गाली याद की हैं जो आज तुम्हें सुनाऊँगी। कालिया की बात सुनकर पूनम थोड़ी आश्चर्य में पड़ गई ,शायद उसने सोचा ही नही था की कालिया भी इतना जहीन और समझदार होगा…

साहिल उठा और डाइनिंग रूम मे आ जाता है और वहाँ रखे बड़े से सोफे पर बैठकर चॅनेल बदल कर टी.वी देखने लगता है . दीपाली- बड़ा बदतमीज़ है.. जब देखो खड़ा हो जाता है.. चल आ जा तुझे प्यार से सुलाती हूँ. चूस चूस कर आज तेरा सारा पानी निकाल दूँगी.. फिर होना कड़क…

नाज़ी: फिकर मत कीजिए हम रोज़ आप चद्दर डाल देते थे दवाई लगाने से पहले (उसके चेहरे पर यह बात कहते हुए मुस्कुराहट ऑर शरम दोनो थी) पेन्शन वाढ कधी होणार लेकिन दोनो ने ही अपने को काबू में रखा था ,पता नही कब और कौन सी एक चिंगारी उस ज्वालामुखी को फोड़ देती,

मराठी सेक्सी वीडियो भाभी

  1. अम्मा : (रोते हुए) कहाँ चला गया था बेटा अपनी अम्मा को छोड़ कर ऑर इतना वक़्त तू था कहाँ जानता है हमने तुझे कितना याद किया ऑर तेरी सलामती के लिए कितनी दुआएँ की थी.
  2. उसके बाद में फोन अपनी जीन्स में डालकर एक छोटे से ट्रॅवेल बेग में कुछ ज़रूरी सामान भर लेता हूँ....और मम्मी से कहता हूँ जुगल किशोर अंकल की दुकान से कोई आएगा उन्हे वो बॉक्स दे देना.... एक्स एक्स एक्स गुजराती मूवी
  3. जब कालिया को आप अपने घर में ही नही पकड़ पाए तो थोड़ा धैर्य रखिये अभी अभी तो आया हु,थोड़ा समझने तो दीजिये ,इतने सालो में क्या हुआ ,कनक आखिर विक्रांत की बीवी कैसे बन गई ??? दीपक- अबे चूतिया साले, काश का क्या मतलब है.. मैं सच ही बोल रहा हूँ.. कल देख लेना और हाँ मैडी, तुझे तो रात को ही पता चल जाएगा.. ओके, अब चलो. मुझे घर पर थोड़ा काम भी है यार…
  4. पेन्शन वाढ कधी होणार...तभी ज्योति अपनी यादो के भवर से निकल कर बाहर आजाती है.....कोई उसके कॅबिन के दरवाजे पर दस्तक दिए जा रहा था..... ऐसा कह कर दोनों हसने लगे और उस दिन भाभी ने भैया को शायद और एक बार अपना शरीर सोपा, जिसके शायद भैया ने बहोत मज़े लुटे होंगे...
  5. मोंगरा चिल्लाई ,रणधीर धीरे धीरे उसकी ओर बढ़ने लगा,जब वो उसके थोड़ा नजदीक गया मोंगरा का ध्यान उसके चहरे पर गया.. विकास- आ गई ... अब सवाल मत पूछना कि ऐसे क्यों पड़ा हूँ? आँख में कचरा चला गया.. अभी ड्रॉप डाला है.. 5 मिनट रूको. आ जाओ मेरे पास बैठ जाओ…

एक्स एक्स एक्स बबीता

दोनों अब एक-दूसरे की चूत का रस चाट रही थीं दीपाली तो पहले चूत चाट चुकी थी.. उसको तो बड़ा मज़ा आ रहा था मगर प्रिया की चूत पर पहली बार होंठ लगे थे.. वो तो आनन्द की असीम सीमा पर पहुँच गई थी। उसको बहुत मज़ा आ रहा था और उसी जोश में वो दीपाली की चूत को बड़े मज़े से चाट रही थी।

(दोस्तों आप ठीक सोच रहे हो.. ये वही अँधा भिखारी है.. जो रास्ते में मिला था। अब आप देखो आगे क्या होता है।) दीपक- उह्ह उह्ह आह्ह… तू कहती है तो उहह उहह.. ले आराम देता हूँ साली को आह्ह… अब इसका मुँह खोल.. मैं भी देखूँ क्या बोलती है ये?

पेन्शन वाढ कधी होणार,रात अंधियारे में छोटे से दिए की लालिमा में मोंगरा का नंगा शरीर चमक रहा था,बाल बिखरे हुए थे,और बलवीर का नंगा देह उसके शरीर के बाजू में पड़ा था,अभी बलवीर का मुह मोंगरा के स्तन से दूध पी रहा था,और मोंगरा उसके बालो को सहलाते हुए किसी ख्वाब में खोई हुई थी..

दीपाली की नज़र जब उस पर गई उसकी आँखें फट गईं क्योंकि वो सुपाड़ा बहुत बड़ा था ... हालांकि उस भिखारी का लौड़ा सोया हुआ था मगर कच्छे में ऐसे लटका हुआ था जैसे कोई हथियार लटका हो।

साहिल .हमारा वादा रहा ,,लेकिन आज आप भी हमसे वादा करो कि अब कभी मरने की बात नही करोगे.तुम्हारी ऐसी बाते सुनकर हमारी जान निकलने लगती हैलड़की की चूची दिखाइए

दीपाली- अरे क्या हुआ मेरे आशिक.. मैं सच कह रही हूँ आ जाओ आज अपनी तमन्ना पूरी कर लो.. चोद दो मुझे.. आ मैं भी बहुत प्यासी हूँ अब देर ना करो.. आ जाओ ना… आदमी : ओये खाबीज़ तुझे यहाँ बड़े लोगो मे बैठने को किसने बोला है चल बाहर दफ्फा हो ऑर सेक्यूरिटी का ख़याल रख साले को दारू पीने की पड़ी है.

चाकू की नोक इंस्पेक्टर के पेट में घुसी और पूरी अंतड़ियों के साथ बाहर आ गई ,साथ ही एक जोर का वार उसके गले में किया गया और लहू की धार का एक फुहारा सा फुट गया …

अभी ना जाने कितने हितैषी होंगे उसके इस हवेली में ,सभी को धीरे धीरे ढूंढना बहुत ही जरूरी है वरना क्या पता की हम उसे मारने की सोच रहे है और वो हमारे ही घर में हम पर ही भारी पड़ जाए,पेन्शन वाढ कधी होणार मीना- अरे नहीं रे, वक्त कहाँ मिलता है आने का. तुम तो जानती हो मेरा काम ही ऐसा है.. होटल में कहाँ वक्त मिलता है.. बस रविवार को छुट्टी मिलती है। वहाँ साले एक से बढ़ कर एक हरामी देखने को मिलते हैं।

News